Christmas Day 25 December क्रिसमस क्यों मनाया जाता है, क्या महत्त्व है और बड़ा दिन क्यों कहते है

Christmas Day – क्रिसमस या बड़ा दिन ईसा मसीह या यीशु के जन्म की खुशी में मनाया जाने वाला पर्व है। यह 25 दिसंबर को पड़ता है और इस दिन लगभग संपूर्ण विश्व मे अवकाश रहता है। क्रिसमस से 12 दिन के उत्सव क्रिसमसटाइड की भी शुरुआत होती है। एन्नो डोमिनी काल प्रणाली के आधार पर यीशु का जन्म, 7 से 2 ई.पू. के बीच हुआ था।

Table of Contents

Christmas Day 25 December

क्रिसमस क्यों मनाया जाता है ?

25 दिसंबर यीशु मसीह के जन्म की कोई ज्ञात वास्तविक जन्म तिथि नहीं हैं और लगता है कि इस तिथि को एक रोमन पर्व या मकर संक्रांति (शीत अयनांत) से संबंध स्थापित करने के आधार पर चुना गया है। आधुनिक क्रिसमस की छुट्टियों मे एक दूसरे को उपहार देना, चर्च मे समारोह और विभिन्न सजावट करना शामिल हैं। इस सजावट के प्रदर्शन मे क्रिसमस का पेड़, रंग बिरंगी रोशनिमयाँ, बंडा, जन्म के झाँकी और हॉली आदि शामिल हैं। सांता क्लॉज़ (जिसे क्रिसमस का पिता भी कहा जाता है हालांकि, दोनों का मूल भिन्न है) क्रिसमस से जुड़ी एक लोकप्रिय पौराणिक परंतु कल्पित शख्सियत है जिसे अक्सर क्रिसमस पर बच्चों के लिए उपहार लाने के साथ जोड़ा जाता है। सांता के आधुनिक स्वरूप के लिए मीडिया मुख्य रूप से उत्तरदायी है।

Christmas Day

क्रिसमस का महत्त्व

  • अगर हम क्रिसमस की महत्त्व की बात करें तो क्रिसमस त्यौहार ईसाईयों का प्रमुख पर्व है। ईसामसीह का जन्म 25 दिसंबर को रात बारह बजे हुआ था। इसलिए हर साल 25 दिसंबर को क्रिसमस डे बनाया जाता है। मना जाता है कि ईसामसीह का जन्म 25 दिसंबर को रात बारह बजे बेथलहेम शहर की एक गौशाला में हुआ था। जैसे भारतीयों के लिए दीपाली, ईद और होली होती है वैसे ही ईसाईयों के लिए क्रिसमस का त्योहार होता है। लेकिन आज कल भारतीय भी क्रिसमस को बड़े हर्ष और उल्लास के साथ बनाते है। क्रिसमस की सुबह गिरिजाघरों में विशेष प्रार्थना सभा होती है। इस दिन अन्य धर्मों के लोग भी चर्च में मोमबत्तियां जलाकर प्रार्थना करते हैं।

क्रिसमस को बड़ा दिन क्यों कहा जाता है ?

  • क्रिश्चियन समुदाय के लोग हर साल 25 दिसंबर के दिन क्रिसमस का त्योहार मनाते हैं। यह ईसाइयों का सबसे बड़ा त्योहार है। इसी दिन प्रभु ईसा मसीह या जीसस क्राइस्ट का जन्म हुआ था इसलिए इसे बड़ा दिन भी कहते हैं। क्रिसमस के 15 दिन पहले से ही मसीह समाज के लोग इसकी तैयारियों में जुट जाते हैं।

क्रिसमस डे किसकी याद में मनाया जाता है?

  • क्रिसमस को सभी ईसाई लोग मनाते हैं और आजकल कई गैर ईसाई लोग भी इसे सांस्कृतिक उत्सव के रूप मे मनाते हैं। क्रिसमस के दौरान उपहारों का आदान प्रदान, सजावट का सामन और छुट्टी के दौरान मौजमस्ती के कारण यह एक बड़ी आर्थिक गतिविधि बन गया है और अधिकाँश खुदरा विक्रेताओं के लिए इसका आना एक बड़ी घटना है।

क्रिसमस ट्री क्यों लगाया जाता है ?

  • क्रिसमस ट्री यानी वही हरा-भरा, प्यारा-सा पौधा जिसे क्रिसमस यानी बड़े दिन के त्योहार पर घर में खूब सजाया जाता है. उसमें रंग-बिरंगी पन्नी लगाई जाती है. चमकीले तारों, कांच के मोतियों, रिबन, रंगीन बल्बों और झालरों से सजाया जाता है. और हां, उसमें छोटे-छोटे पैकेट और टोकरियां लगा कर, उनमें मजेदार उपहार छिपाए जाते हैं!

Related story

क्रिसमस ट्री का पौधा कैसे लगाते हैं?

  • ये है सही दिशा- क्रिसमस ट्री को उत्तर दिशा में रखा जाना चाहिए. आप इसे उत्तर पूर्व दिशा में भी रख सकते हैं. इसके साथ ही ध्यान रखें कि क्रिसमस ट्री का आकार तिकोना हो. वास्‍तु में तिकोने आकार को अग्नि का प्रतीक माना जाता है.

क्रिसमस ट्री को और किस नाम से जानते है ?

  • क्रिसमस ट्री को डगलस बालसम फर के नाम से भी जाना जाता है. क्रिसमस को खास बनाने के लिए लोग तैयारियों में जुटे हैं. हर कोई इस दिन को यादगार बनाना चाहता है. इसके लिए लोग क्रिसमस ट्री की अलग-अलग ढंग से सजावट करते हैं

What plant is Christmas tree?

  • Fir trees are a genus of the evergreen coniferous trees and are also a popular choice for the holiday season. The most popular fir trees used for Christmas include the noble fir, fraser fir and balsam fir.

What is the story behind the Christmas tree?

  • Germany is credited with starting the Christmas tree tradition as we now know it in the 16th century when devout Christians brought decorated trees into their homes. … It is a widely held belief that Martin Luther, the 16th-century Protestant reformer, first added lighted candles to a tree

Which plant is used as Christmas tree in India?

  • Araucaria columnaris – Christmas Tree. The Cook pine, called Christmas Tree in India, is a tree native to the Cook Island, north-east of Australia in the South Pacific

क्रिसमस ट्री लगाने से क्या होता है?

  • क्रिसमस ट्री (वास्तु के अनुसार क्रिसमस ट्री के फायदे ) में धन की देवी मां लक्ष्मी का वास माना गया है, इसलिए इसे घर में लगाने से घर में धन की कभी कमी नहीं होती है। यह पौधा कभी पेड़ नहीं बनता है। यह अपनी अधिकतम ऊंचाई के बाद भी उतना ही बड़ा बना रहता है.

Comment Below For More Discussion

Related Post